चाची का पुरा मजा लेता हूँ
चाचा छुट्टी पे घर आया था। दोपहर को सब हॉलमे सो रहे थे। चाचा लेटकर टिव्ही देख रहा था। मेरे पिताजी सीमा चाची के बगल मे सो रहे थे। थोडी देर बाद उन्होने सीमा चाची को अपनी तरफ घूमा लिया और वो मॅक्सीके उपरसे ही उसके मुम्मो को बारी बारी से चुसने लगे। चाची हसकर बोली, "क्या कर रहे हो देवरजी? आपने स्तनपान करना छोड दिया है ना अभी? " मेरे पिताजी बोले, "हा पर कभी कभी मुझे पीने की इच्छा होती है। मुझे दुदु पिने मे बहुत मजा आता था। अब पिलाओ ना मुझे। बहुत दिनो से पिया नही है। " चाची हसते हुए बोली, "आप भी ना देवरजी छोटे बच्चे जैसा बरताव करते हो। " उसने अपना बाया हात मेरे पिताजी के सर के निचे खिसका दिया। फिर वो मॅक्सीके बटन खोलकर चाचा के सामने ही उनको छोटे बच्चे की तरह अपना दूध पिलाने लगी।


रात को खाना खाने के बाद दोनो चाचीयोंने हॉल मे बिस्तर फेर दिया। पूजा चाची दादाजी के बगल मे सो गयी। हॉल की लाइट चालू ही थी। थोडी देर बाद वो अपना पल्लू बाजू करके दादाजी को स्तनपान करने लगी। सीमा चाची जानबूझकर अपना पल्लू एक मुम्मे से हटाकर मेरे पिताजी को बोली, "आपको भी पिलाऊ क्या? " पिताजी ने हा कहने पर सीमा चाची उनके बगल मे सो गयी। चाचा खटाई पर सो गया। सीमा चाचीने मुझे लाईट बंद करके उसके दूसरे बाजू सोने को कहा। मै लाईट बंद करके उसके बगल मे सो गया। अपना पल्लू हटाकर सीमा चाची मेरे पिताजी को बोली, "आओ देवरजी, दुदु पिना है ना आपको? " वो उसके पास खिसकते ही सीमा चाची अपने ब्लाऊजके बटन खोलकर उनको छोटे बच्चे की तरह पिलाने लगी। मेरे पिताजी पुरे जोश मे सीमा चाची का दूध पी रहे थे।

एक दिन सीमा चाची पडोस के रीमा चाची के साथ उसके ससुरजी को डॉक्टर के क्लिनीक लेकर गयी थी। कम्पौंडर से नंबर लेने के बाद वो दोनो रीमा के ससुर के ससुरजी को बाजूके महिलाओं के कमरे मे लेकर गयी। सीमा चाची ने रीमा चाचीको पुछा, "क्या हो गया तेरे ससुरजी को? " रीमा चाची बोली, "दो दिन से कमजोरी है उनको। अब क्या करु मै? " सीमा चाची हसते हुए बोली, "तो तुने उनको मेरे पास लाया होता तो मै उनको स्तनपान करवाती ना। अब उनको इधर ही पिलाना पडेगा । " उसने रीमा के ससुर को अपने गोद मे सुलाया और पल्लू बाजू करके अपने ब्लाऊजके निचले बटन खोलने लगी। ससुरजी बोले, "ये क्या कर रही हो? किसी ने देखा तो क्या कहेंगे वो? " सीमा हसते हुए बोली, "उनको कहूँगी की आपको दूध पिला रही हूँ। कोई कुछ नही बोलेगा आपको। " फिर वो ब्लाऊज एक साइड से उपर करके रीमा चाची के सामने ही उसके ससुर को अपना दूध पिलाने लगी। सीमा चाची हसते हुए बोली, "देखा रीमा? सबके ससुर एक जैसे ही होते है। " दोनो हसने लगी।

रात को सीमा चाची रीमा चाचीके घर सोने के लिए गयी। रीमा चाचीने उसके ससुर के लिए हॉलमे ही बिस्तर फेर दिया था। वो सीमा चाचीको हसते हुए बोली, "ससुरजी तुझे ही याद कर रहे थे। " सीमा चाची रीमा चाचीके ससुर के बगल मे सो गयी और उनको बोली, "आओ मेरे बच्चे। तुझे दुदु पिना है ना? इधर तुझे कोई पिते हुए देखने को नही आएगा। " फिर वो उनको अपने बच्चे जैसा ही स्तनपान करने लगी।
हमारे पडोस के रीमा चाची के भतिजे की स्कुल ट्रिप किसी गार्डन मे जाने वाली थी। रमेश अब आठवीं कक्षा मे था। रीमा चाची उसके साथ जा नही सकती थी इसलिए उसने सीमा चाचीको रमेश के साथ जाने के लिए कहा। वो सब रात को ट्रेन मे बैठ गये। उनके डिब्बे मे और भी कुछ बच्चे और उनके कुछ रिलेटीव थे। रात का टाइम होने के कारण सब अपने अपने बर्थ पर सोने लगे। सीमा चाची भी सबसे उपरी बर्थ पर रमेश के साथ सो गयी। किसी ने लाइट बंद कर दिया। सीमा चाची रमेश की तरफ घुम गयी और उसके उपर हाथ डालकर सोने लगी। वो रमेश को बोली, "राजू होता तो उसको स्तनपान करने मे बहुत मजा आता। पर तु तो दूध नही पिता। " रमेश, "तो क्या मुझे भी दूध पिला देती आप चाची? " सीमा चाची हसकर बोली, "क्यू नही पिलाती रमेश? तू अभी बच्चा ही है ना? " रमेश को उसके मुम्मो को इतने पास से देखकर बहुत आनंद हो रहा था। रमेश ने पुछा, "पर मेरी चाची को पता चला तो वो डाटेगी नही ना? " सीमा चाची बोली, "मै उसको समझा दूंगी। ठिक है? अब आ। दुदु पी ।" उसने अपना पल्लू हटाकर ब्लाऊजके उपरी बटन खोल दिये। फिर वो रमेश को बच्चे की तरह स्तनपान करने लगी।


सुबह सीमा चाची ऊठकर बैठी और उसने कुछ जगी हुई महिलाओं के सामने ही अपने ब्लाऊजके बटन फिरसे लगा लिए। वो महिलाएं हसने लगी और सीमा चाची भी उनके साथ हसने लगी। गार्डन पहुचने के बाद सब बच्चे खेलने लगे और महिलाएं आपस मे बाते करने लगी। एक महिला ने सीमा चाची को पुछा, "क्या आप रोज अपने भतिजे को स्तनपान करती है? " सीमा चाची बोली, "हाँ। मै उसको दिन मे चार बार पिलाती हूँ। " वो महिला हसते हुए बोली, "रमेश इतना बडा होकर भी स्तनपान करता है। बहुत ही भाग्यवान है तू। " बच्चों का खेलना होने के बाद सीमा चाची कुछ महिलाओं के साथ रमेश को अपने कमरे मे लेकर गयी। निचे बैठते हुए वो रमेश को बोली, "बहुत खेलना हो गया। अब दुदु पी ले ।" उसने रमेश को गोद मे सुलाया। फिर वो उसका सर पल्लू से ढककर उसको उन महिलाओं के सामने ही अपना दूध पिलाने लगी। सब महिलाएं सीमा चाची के साथ हसने लगी। पर रमेश तो छोटे बच्चे की तरह उसका दूध पिने मे ही दंग था।


Possibly Related Threads...
Thread:AuthorReplies:Views:Last Post
चाची की चूत की चाहत Le Lee 0 5,241 07-27-2017
Last Post: Le Lee
विधवा चाची की चुदाई Le Lee 0 6,888 06-01-2017
Last Post: Le Lee
जवान चाची का कमाल Le Lee 2 6,860 03-30-2017
Last Post: Le Lee
चाची का कमाल Penis Fire 2 40,332 02-22-2014
Last Post: Penis Fire
चाची को चोदने का मज़ा Sex-Stories 0 38,795 09-06-2013
Last Post: Sex-Stories
चाची का दीवाना Sex-Stories 0 19,688 09-06-2013
Last Post: Sex-Stories
चाची की चुदाई से शुभारम्भ Sex-Stories 64 220,082 08-09-2013
Last Post: Sex-Stories
रेखा चाची का बेटा Sex-Stories 0 21,442 06-20-2013
Last Post: Sex-Stories
चाची की भावनाएँ Sex-Stories 0 16,693 06-20-2013
Last Post: Sex-Stories
Bug मेरी प्यारी कान्ता चाची gitaao 0 21,853 04-28-2013
Last Post: gitaao



Online porn video at mobile phone